Chandrayaan 3

Flight Path

Chandrayaan 3 News: चंद्रयान-3 के बारे में 10 प्वाइंट जो आपको जरूर जानने चाहिए

लैंडिंग से पहले चंद्रयान-2 के ‘आर्बिटर’ और चंद्रयान-3 के ‘लुनार मॉड्यूल’ के बीच दोतरफा बातचीत हुई है। स्वागत है दोस्त!... चंद्रयान-2 आर्बिटर ने औपचारिक रूप से चंद्रयान-3 लैंडर मॉड्यूल का स्वागत किया।

अब 23 अगस्त की शाम पौने छह बजे का इंतजार है जब लैंडिंग की प्रक्रिया शुरू हुई है। हालांकि इसमें एक पेच है। 

Chandrayaan 3 Landing:

Flight Path

इस समय पूरी दुनिया की नजरें भारत पर हैं। 23 अगस्त यानी कल शाम 6.04 बजे भारत का चंद्रयान-3 चांद पर उतरने की कोशिश करेगा। 

23 अगस्त की शाम 5 बजकर 47 मिनट पर चंद्रयान-3 चांद पर उतरने का भरपूर प्रयास करेगा। ऐसी आशा की जाती है कि हम सफलतापूर्वक 5.47 पर जो प्रयास शुरू करेंगे, 

हम सफलतापूर्वक-सुरक्षापूर्वक चांद की सतह पर लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग कराने में सफल हो पाएंगे। देश के 140 करोड़ लोग और इसरो के लगभग 17 हजार कर्मचारी उस पल का इंतजार कर रहे हैं। 

Flight Path

इसरो साइंटिस्ट ने बताया है कि 23 अगस्त को अगर लैंडिंग न करने का फैसला किया गया तो क्या विकल्प बचेगा और क्या समय बदलने से लैंडिंग की लोकेशन भी बदलेगी?

अगर हमको लगता है कि कुछ और समय की जरूरत है तो 27 अगस्त को उतरने का प्रयास करेंगे। दो ऑप्शन ही हैं हमारे पास। 

अगर 27 अगस्त को उतरेंगे तो 18 किमी की ऊंचाई से उतरेंगे और जहां पर उतरेंगे वो अभी वाली साइट से करीब 400 किमी दूर होगी यानी अहमदाबाद की जगह मुंबई में उतरेंगे। हालांकि इसकी संभावना कम है। 

Flight Path

भारत का बहुप्रतीक्षित तीसरा चंद्र मिशन 'चंद्रयान-3' चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग से बस कुछ ही देरी की दूरी पर है. 23 अगस्त की शाम ISRO की ओर से चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर इसकी सॉफ्ट लैंडिंग कराई जाएगी.

चंद्रमा पृथ्वी से औसतन 238,855 मील (384,400 किलोमीटर) दूर है, यानी लगभग 30 पृथ्वियों के जितनी दूरी.

गदर2 ने मचाई तबाही 6 दिन में ही कमा कर मालामाल हुई फिल्म